blogid : 19157 postid : 1370256

घर के आंगन में तुलसी सूखने के हैं कई संकेत, विपत्ति से पहले करती है सावधान

Posted On: 27 Nov, 2017 Others में

Shilpi Singh

  • SocialTwist Tell-a-Friend

लगभग हर घर में तुलसी का एक पेड़ जरुर होता है. ऐसा इसलिए क्योंकि इससे घर में शांति और सुख बना रहता है साथ ही ये भी माना जाता है कि, आपके घर, परिवार या आप पर कोई मुसीबत आने वाली होती है तो उसका असर सबसे पहले आपके घर में स्थित तुलसी के पौधे पर होता है। तुलसी का पौधा ऐसा है जो आपको पहले ही बता देगा कि आप पर या आपके घर परिवार को किसी मुसीबत का सामना करना पड़ सकता है। यही नहीं भगवान विष्णु की पूजा को तुलसी पत्र के बिना अधूर माना जाता है। बिना तुलसी के श्री हरि को भोग नहीं लगता।


cover tulsi



पुराणों में तुलसी के पौधे का महत्व

पुराणों और शास्त्रों के अनुसार माना जाए तो ऐसा इसलिए होता है कि जिस घर पर मुसीबत आने वाली होती है उस घर से सबसे पहले लक्ष्मी यानी तुलसी चली जाती है। दरिद्रता, अशांति और क्लेश के बीच लक्ष्मी जी का निवास नहीं हो, ज्योतिष में इसकी वजह बुध माना जाता है।


tulsi


राक्षस को खत्म करने आए भगवान विष्णु

प्राचीन काल में जलंधर नाम का राक्षस था, उसने सारे धरती पर उत्पात मचा रखा था। राक्षस की वीरता का राज था उसकी पत्नी वृंदा का पतिव्रत धर्म। कहा जाता है कि उसी के प्रभाव से वह हमेशा विजय होता था। जलंधर के आतंक से परेशान होकर ऋर्षि-मुनि भगवान विष्णु के पास पहुंचे। भगवान ने काफी सोच विचार कर वृंदा का पतिव्रत धर्म भंग करने का निश्चय किया। उन्होंने योगमाया से एक मृत शरीर वृंदा के घर के बाहर फिकवा दिया। माया का पर्दा होने से वृंदा को अपने पति का शव दिखाई दिया।


tulsi-



वृंदा ने दिया श्राप

अपने पति को मृत जानकर वह उस मृत शरीर पर गिरकर रोने लगी, उसी समय एक साधु उसके पास आए और कहने लगे बेटी इतनी दुखी मत हो। मैं इस शरीर में जान डाल देता हूं, साधु ने उसमें जान डाल दी। भावों में बहकर वृंदा ने उस शरीर का आलिंगन कर लिया। उधर, उसका पति जलंधर, जो देवताओं से युद्ध कर रहा था, वृंदा का सतीत्व नष्ट होते ही मारा गया। बाद में वृंदा को पता चला कि यह तो भगवान का छल है।


tulasi--1



भगवान विष्णु को वृंदा का मिला श्राप

वृंदा ने इस छल के लिए भगवान विष्णु को श्राप दिया कि, जिस प्रकार आपने छल से मुझे पति वियोग दिया है। उसी तरह आपको भी स्त्री वियोग सहने के लिए मृत्युलोक में जन्म लेना होगा। यह कहकर वृंदा अपने पति की अर्थी के साथ सती हो गई। इस घटना के बाद त्रैतायुग में भगवान विष्णु ने भगवान राम के रूप में अवतार लिया और सीता के वियोग में कुछ दिनों तक रहना पड़ा।


tulsi-pooja


क्यों होती है विष्णु और तुलसी की पूजा

यह भी कहा जाता है कि वृंदा ने विष्णु जी को यह श्राप दिया था कि तुमने मेरा सतीत्व भंग किया है, अत: तुम पत्थर के बनोगे और वही श्री हरि का शालिग्राम रूप है। इसके बाद वृंदा अपने पति के साथ सती हुई, जिस जगह वह सती हुई वहां तुलसी का पौधा उत्पन्न हुआ। भगवान विष्णु अपने छल पर बड़े लज्जित हुए। ऐसा सुनकर विष्णु बोले, ‘हे वृंदा! यह तुम्हारे सतीत्व का ही फल है कि तुम तुलसी बनकर मेरे साथ ही रहोगी।…Next



Read More :

आपके घर में है ‘मनीप्लांट’ तो भूल से भी न करें ये गलतियां

समुद्र शास्त्र: अगर इस उंगली पर है तिल मिलता है प्यार, दौलत और शोहरत

गरूड़पुराण : पति से प्रेम करने वाली स्त्रियां भूल से भी न करें ये 4 काम



Tags:             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran