blogid : 19157 postid : 1327531

चाणक्य नीति: ये 5 बातें दुनिया के हर इंसान को अंदर ही अंदर जलाती है

Posted On: 1 May, 2017 Religious में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जीवन में कुछ बातें ऐसी होती है, जो किसी इंसान को हर रोज अंदर ही अंदर परेशान करती है. कहते हैं जब कोई व्यक्ति जीवन के बंधनों से आजाद होता है तो उत्सव मनाने का वक्त होता है, क्योंकि कष्ट तो सिर्फ शरीर को होता है.


chanakya1

दूसरी तरफ आचार्य चाणक्य कहते हैं कि जीवन में 5 बातें ऐसी होती है, जो किसी भी इंसान को भीतर से खाते जाती है और अगर इन बातों से इंसान ऊपर नहीं उठ पाता तो किसी भी हालात में कामयाब नहीं हो सकता.


breakup


1. जीवनसाथी/ प्रेमी-प्रेमिका का वियोग

आचार्य चाणक्य के अनुसार कोई भी अच्छा इंसान अपनी पत्नी या प्रेमिका का वियोग या उससे दूर होना सहन नहीं कर पाता है. जीवन में हर व्यक्ति को प्रेम की आवश्यकता रहती है जिसके कारण किसी का दूर जाना कोई भी व्यक्ति सहन नहीं कर सकता.


2. मित्रों या रिश्तेदारों द्वारा अपमान

इसके अलावा कोई मित्र या रिश्तेदार अपमान कर देता है तब भी व्यक्ति को दुख का ही सामना करना पड़ता है. अपने लोगों से अपमानित होने के बाद कोई भी व्यक्ति वह समय नहीं भुला पाता है.


fight


3. किसी से लिया हुआ कर्ज

स्वाभिमानी व्यक्ति किसी से जब भी कर्ज लेता है वो अपराधबोध में जीने लगता है. इसी वजह से धीरे-धीरे वो खुद को कमजोर महसूस करने लगता है.


business 1


4. गरीबी

किसी भी इंसान के लिए सबसे बड़ा दुख है गरीबी. गरीबी एक अभिशाप की तरह ही है. गरीब व्यक्ति हर पल आर्थिक तंगी के चलते जलता रहता है.


5. स्वार्थी लोगों का साथ

इसके अलावा यदि किसी व्यक्ति के आसपास के लोग स्वार्थी स्वभाव के हैं और फिर भी उनके साथ रहना पड़ता है तो यह भी एक दुख ही है…Next


Read More:

इन चार बातों से जानें नमस्कार करने का सही तरीका

क्यों की जाती है पूजा के बाद आरती, ये है वैज्ञानिक कारण

सीता से पहले रावण ने किया था कौशल्या का हरण, हुई थी ये विचित्र भविष्यवाणी



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 2.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran