blogid : 19157 postid : 1258111

अभिमन्यु के पुत्र की ऐसे हुई थी मृत्यु, पांडव के आखिरी वंशज ने लिया बदला

Posted On: 20 Sep, 2016 Religious में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

महाभारत का युद्ध समाप्त हो चुका था. राजा परीक्षित के राज-काज में प्रज्ञा बहुत सुखी थी. एक दिन राजा परीक्षित वन में भ्रमण करने गए. इस दौरान उन्हें बहुत प्यास लगी. जलाशय की खोज में इधर-उधर घूमते हुए वे शमीक ऋषि के आश्रम में पहुंच गए. वहां पर शमीक ऋषि नेत्र बंद किए हुए तथा शान्तभाव से एकासन पर बैठे हुये ब्रह्मध्यान में लीन थे. राजा परीक्षित ने उनसे जल मांगा किन्तु ध्यानमग्न होने के कारण शमीक ऋषि ने कुछ भी उत्तर नहीं दिया. उसी क्षण राजा के स्वर्ण मुकुट पर कलियुग विराजमान हो गया. कलियुग के प्रभाव से राजा परीक्षित को प्रतीत हुआ कि यह ऋषि ध्यानस्थ होने का ढोंग करके उनका अपमान कर रहे हैं. उन्हें ऋषि पर बहुत क्रोध आया. उन्होंने अपने अपमान का बदला लेने के उद्देश्य से पास ही पड़े हुये एक मृत सर्प को अपने धनुष की नोंक से उठा कर ऋषि के गले में डाल दिया और अपने नगर वापस आ गये.

parishit


ऋषि ने दिया राजा परीक्षित को श्राप

शमीक ऋषि तो ध्यान में लीन थे उन्हें ज्ञात ही नहीं हो पाया कि उनके साथ राजा ने क्या किया है किन्तु उनके पुत्र ऋंगी ऋषि को जब इस बात का पता चला तो उन्हें राजा परीक्षित पर बहुत क्रोध आया. ऋंगी ऋषि ने सोचा कि यदि यह राजा जीवित रहेगा तो इसी प्रकार ब्राह्मणों का अपमान करता रहेगा. इस प्रकार विचार करके उस ऋषि कुमार ने कमण्डल से अपनी अंजुली में जल लेकर तथा उसे मन्त्रों से अभिमन्त्रित करके राजा परीक्षित को सातवें दिन तक्षक सर्प द्वारा डसने का श्राप दे दिया. इस तरह सातवें दिन परीक्षित को तक्षक नाग ने डस लिया, जिससे उनकी मृत्यु हो गई.



sage


Read:  महाभारत : पूर्वजन्म में इस श्राप के कारण नेत्रहीन पैदा हुए थे धृतराष्ट्र


परीक्षित के पुत्र ने लिया सर्पों से बदला

राजा जनमेजय, राजा परीक्षित के पुत्र थे. जनमेजय को जब अपने पिता की मौत की वजह का पता चला, तो उसने धरती से सभी सांपों के सर्वनाश करने का प्रण ले लिया और इस प्रण को पूरा करने के लिए उसने सर्पमेध यज्ञ का आयोजन किया. इस यज्ञ के प्रभाव से ब्रह्मांड के सारे सांप हवन कुंड में आकर गिर रहे थे. लेकिन सांंपों का राजा तक्षक, जिसके काटने से परीक्षित की मौत हुई थी, खुद को बचाने के लिए सूर्य देव के रथ से लिपट गया और उसका हवन कुंड में गिरने का अर्थ था सूर्य के अस्तित्व की समाप्ति जिसकी वजह से सृष्टि की गति समाप्त हो सकती थी.


mahabharat


सूर्यदेव और ब्रह्माण्ड की रक्षा के लिए सभी देवता जनमेजय से इस यज्ञ को रोकने का आग्रह करने लगे लेकिन जनमेजय किसी भी रूप में अपने पिता की हत्या का बदला लेना चाहता था. जनमेजय के यज्ञ को रोकने के लिए अस्तिका मुनि को हस्तक्षेप करना पड़ा, जिनके पिता एक ब्राह्मण और मां एक नाग कन्या थी. अस्तिका मुनि की बात जनमेजय को माननी पड़ी और सर्पमेध यज्ञ को समाप्त कर तक्षक को मुक्त करना पड़ा. कहा जाता है कि उस यज्ञ से पृथ्वी के आधे से ज्यादा सर्पों का विनाश हो गया था…Next


Read More:

महाभारत के खलनायक शकुनी का यहां है मंदिर, होती है पूजा
महाभारत युद्ध के दौरान श्रीकृष्ण को स्त्री बनकर करना पड़ा था इस योद्धा से विवाह
महाभारत युद्ध का यहां है सबसे बड़ा सबूत, दिया गया है ये नाम

महाभारत के खलनायक शकुनी का यहां है मंदिर, होती है पूजा

महाभारत युद्ध के दौरान श्रीकृष्ण को स्त्री बनकर करना पड़ा था इस योद्धा से विवाह

महाभारत युद्ध का यहां है सबसे बड़ा सबूत, दिया गया है ये नाम



Tags:                                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran