blogid : 19157 postid : 1254013

यहां है भगवान गणेश का कटा हुआ सिर, आज है भक्तों की आस्था का केंद्र

Posted On: 15 Sep, 2016 Religious में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भगवान गणेश जी का सिर कैसे कटा? कैसे हाथी का सिर उनके शरीर से जोड़ा गया ? इस कहानी से तो हर कोई परिचित है. लेकिन वह कटा हुआ सिर आज कहां है क्या इसके बारे में आपको जानकारी है?


ganpatii


किसने भगवान गणेश का सिर धड़ से अलग किया

दरअसल पौराणिक कहानी के अनुसार, माता पार्वती को स्नान के लिए जाना था लेकिन उनके द्वार पर पहरा देने के लिए कोई नहीं था, तभी मां ने अपने तन की मैल से एक बच्चे की रचना की, वो थे गणेश. मां पार्वती ने गणेश को द्वारपाल बनाकर किसी को भी अंदर ना आने का आदेश दिया.

कुछ ही क्षणों में वहां भगवान शिव उपस्थित हुए, जिन्हें गणेश ने अंदर जाने के लिए अनुमति नहीं दी. अनेक यत्नों के बाद भी जब गणेश ने भगवान शिव को अंदर ना जाने दिया तो इस बात से अंजान कि गणेश उन्हीं का पुत्र है, भगवान शिव क्रोधित हो गए और उन्होंने शस्त्र से गणेश का सिर धड़ से अलग कर दिया. अपने पुत्र गणेश को इस तरह धरती पर कटे हुए धड़ के साथ जब माता ने देखा तो वे बेहद क्रोधित हो गईं और शिव से कहा कि वे गणेश को पहले जैसा जीवित कर दें. तभी भगवान शिव ने हाथी का सिर गणेश के शरीर से जोड़ दिया.


pic02


कहां है भगवान गणेश का सिर

ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव ने क्रोधित होकर जिस सिर को धड़ से अलग किया वो आज उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल के प्रसिद्ध नगर अल्मोड़ा से शेराघाट होते हुए 160 किलोमीटर की दूरी तय कर पहाड़ी वादियों के बीच बसे सीमान्त कस्बे गंगोलीहाट में स्थित है. इस जगह को पाताल भुवनेश्वर गुफा के नाम से जाना जाता है. आज यह गुफा भक्तों की आस्था का केंद्र है. मान्यता के अनुसार भगवान शिव ने ही गणेश के मस्तक को गुफा में रखा था.

pic03


108 पंखुड़ियों वाला ब्रह्मकमल

इस गुफा में भगवान गणेश कटे ‍‍शिलारूपी मूर्ति के ठीक ऊपर 108 पंखुड़ियों वाला शवाष्टक दल ब्रह्मकमल सुशोभित है जिसे भगवान शिव ने ही यहां स्थापित किया था. इस ब्रह्मकमल से पानी भगवान गणेश के शिलारूपी मस्तक पर दिव्य बूंद टपकती है और मुख्य बूंद आदिगणेश के मुख में गिरती हुई दिखाई देती है…Next

read more

जानिए भगवान गणेश के प्रतीक चिन्हों का पौराणिक रहस्य

भारत नहीं इस मुस्लिम देश में नोटों पर छपी है गणेश भगवान की तस्वीर

भगवान गणेश ने धरती पर खुद स्थापित की है अपनी मूर्ति, भक्तों की हर मन्नत पूरी होती है वहां



Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran