blogid : 19157 postid : 1142700

मनुष्य के हर कार्य पर लागू होते हैं कर्म के ये पांच नियम, जिससे निर्धारित होता है भाग्य

Posted On: 1 Mar, 2016 Religious में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

संसार के हर मनुष्य ने अपने लिए कोई न कोई नियम ऐसे बनाए होते हैं जिसका वे अनुसरण करता है. लेकिन मनुष्य अपनी आवश्यकताओं के अनुसार उसमें परिवर्तन करता रहता है. लेकिन दूसरी तरफ प्रकृति के बनाए हुए नियम कभी किसी के लिए नहीं बदलते जैसे सूरज हमेशा पूरब से ही उगता है वो किसी व्यक्ति विशेष के लिए अपनी दिशा नहीं बदलता. इसी तरह कर्मों ने भी अपने लिए कुछ अपरिवर्तनशील कानून बनाए हैं जो कभी नहीं बदलते. इसके अनुसार ही किसी मनुष्य को अपने कर्मों का फल मिलता हैं और मनुष्य का भाग्य निर्धारित होता है. आइए हम आपको बताते हैं कर्म के नियम.


final karma law

Read : जानिए, आपके कर्मों का लेखा-जोखा रखने वाले ये देवता कैसे हुए अवतरित?


तटस्थता का नियम  : इसके अनुसार कर्म किसी भी मनुष्य का पक्ष नहीं लेता. यानि कर्म के लिए सभी समान है. किसी मनुष्य के अच्छे और बुरे क्रियाकलाप ही उसको मिलने वाले फल के लिए उत्तरदायी है.


सीख या अनुभव का नियम : इसके अनुसार कोई मनुष्य अपने व्यक्तिगत अनुभवों या भूतकाल की किसी घटना से प्रभावित होकर व्यवहार करता है. यानि यदि कोई मनुष्य अपने भूतकाल के अनुभव के कारण कोई कदम उठाता है तो उस पर अनुभव का नियम लागू होता है.

law of karma

संतुलन का नियम : इसके अनुसार आपके अच्छे और बुरे कामों को मिलाकर आपका भाग्य निर्धारित किया जाता है. जिसे संतुलन का सिद्धांत कहते हैं.


Read : कर्मचक्र से जुड़े इन पांच नियमों को जानकर हर मनुष्य बदल सकता है अपना जीवन

विस्तार का नियम : जैसा कि हम सभी जानते हैं कि ब्रह्माण्ड ऊर्जा से भरा हुआ है. इसी ऊर्जा से पूरा संसार चलता है. जिससे सभी वस्तुओं को गति और वृद्धि मिलती है. इसी तरह अपने जीवन के विभिन्न पड़ावों पर मनुष्य द्वारा किए गए कार्यों का लेखा-जोखा विस्तार के नियम के अंतर्गत आता है.


law of karma 1


प्रेम का नियम : प्रेम का नियम कर्म का सबसे महत्वपूर्ण नियम है जिसके अनुसार कोई मनुष्य किसी अन्य जीव या वस्तु से कितना प्रेम करता है वो लागू होता है. किसी मनुष्य द्वारा अन्य मनुष्य से निश्छल भाव से किए गए प्रेम का फल, इसी नियम के अंतर्गत आता है…Next

Read more

तो इस तरह महाभारत में सुनाई गई रामायण की कहानी

इस मंदिर में श्रद्धालुओं को मिलता है पुनर्जन्म का अवसर

मृत्यृशैया पर दुर्योधन हवा में क्यों लहरा रहा था अपनी तीन अगुंलियां, क्या था उसकी हार का वास्तविक कारण



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Vishwa nath sharma के द्वारा
March 12, 2016

Nic


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran