blogid : 19157 postid : 779852

भगवान शिव की तीसरी आंख खुलने का राज छिपा है इस आध्यात्मिक आम के पेड़ में

Posted On: 16 Nov, 2015 Religious में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भगवान शिव की तीसरी आंख के संदर्भ में जिस एक कथा का सर्वाधिक जिक्र होता है वह है कामदेव को शिव द्वारा अपनी तीसरी आंख से भस्म कर देने की कथा. ऐसी मान्यता है कि उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में ही भगवान शिव ने देवताओं के सेनापति कामदेव को जलाकर भस्म किया था. शिव पुराण में वर्णित यह वही जगह है जिसे हम कामेश्वर धाम के नाम से भी जानते हैं.


tree


अपनी तीसरी आंख से भस्म कर देने की कथा

शिव पुराण में भगवान शिव द्वारा कामदेव को भस्म करने की कथा (कहानी) के बारे में कहा जाता है कि भगवान शिव की पत्नी सती अपने पिता द्वारा आयोजित यज्ञ में अपने पति भोलेनाथ का अपमान सहन नहीं कर पाती है और यज्ञ वेदी में कूदकर आत्मदाह कर लेती है. इस बात की जानकारी जब भगवान शिव को मिलती है तो वह अपने तांडव से पूरी सृष्टि में हाहाकार मचा देते हैं. इससे व्याकुल सारे देवता भगवान शंकर को समझाने पहुंचते हैं. महादेव उनके समझाने से शान्त होकर, परम शान्ति के लिए, तमसा-गंगा के पवित्र संगम पर आकर समाधि में लिन हो जाते हैं.


Read: कैसे जन्मीं भगवान शंकर की बहन और उनसे क्यों परेशान हुईं मां पार्वती


Kamdev


इसी बीच महाबली राक्षस तारकासुर अपने तप से ब्रह्मा जी को प्रसन्न करके ऐसा वरदान प्राप्त कर लेता है जिससे की उसकी मृत्यु केवल शिव पुत्र द्वारा ही हो सकती थी. यह एक तरह से अमरता का वरदान था क्योंकि सती के आत्मदाह के बाद भगवान शिव समाधि में लीन हो चुके थे, इसलिए वह कुछ भी नहीं कर सकते थे.


तारकासुर का उत्पात दिनों दिन बढ़ता जा रहा था और वह स्वर्ग पर अधिकार करने की चेष्टा करने लगा. यह बात जब देवताओं को पता चली तो घबरा गए. उन्होंने निश्चय किया कि जब तक भगवान शिव को समाधि से नहीं जगाया जाएगा तब तक तारकासुर के उत्पात को नहीं रोका जा सकता. इस काम को करने के लिए देवताओं ने कामदेव को सेनापति बनाया. कामदेव, महादेव के समाधि स्थल पहुंचकर अनेकों प्रयत्नों के द्वारा महादेव को जगाने का प्रयास करते हैं, जिसमें अप्सराओं के नृत्य इत्यादि शामिल होते थे, लेकिन सब प्रयास बेकार साबित हुए. अंत में कामदेव स्वयं भोले नाथ को जगाने लिए खुद को आम के पेड़ के पत्तों के पीछे छुपाकर भगवान शिव पर पुष्प बाण चलाते हैं. पुष्प बाण सीधे भगवान शिव के हृदय में लगता है, और उनकी समाधि टूट जाती है. अपनी समाधि टूट जाने से भगवान शिव बहुत क्रोधित होते हैं और आम के पेड़ के पत्तों के पीछे खड़े कामदेव को अपने त्रिनेत्र (तीसरी आंख) से जला कर भस्म कर देते हैं. कामेश्वर धाम में आज भी वह आधा जला हुआ, हरा भरा आम का वृक्ष है जिसके पीछे छिपकर कामदेव ने समाधि में लीन भोले नाथ को समाधि से जगाने के लिए पुष्प बाण चलाया था.


Kamdev10


Read: शिव को ब्रह्मा का नाम क्यों चाहिए था ? जानिए अद्भुत अध्यात्मिक सच्चाई


वैसे यह कथा प्रतिकात्मक है जो यह दर्शाती है कि कामदेव हर मनुष्य के भीतर वास करता है पर यदि मनुष्य का विवेक और प्रज्ञा जागृत हो तो वह अपने भीतर उठ रहे अवांछित काम के उत्तेजना को रोक सकता है और उसे नष्ट कर सकता हैं.


संतों की तपोभूमि

वैसे मान्यता यह भी है कि कामेश्वर धाम कई संतों की तपोभूमि रहा है. त्रेतायुग में इस स्थान पर महर्षि विश्वामित्र के साथ भगवान श्रीराम लक्ष्मण आए थे जिसका उल्लेख बाल्मीकि रामायण में भी है. अघोर पंथ के प्रतिष्ठापक श्री कीना राम की प्रथम दीक्षा यहीं पर हुर्इ थी. कहा यह भी जाता है कि यहां पर दुर्वासा ऋषि ने भी तप किया था.


Read more:

शिव-पार्वती के प्रेम को समर्पित हरितालिका तीज की व्रत कथा और पूजन विधि

शिव के आंसुओं से रुद्राक्ष की उत्पत्ति का क्या संबंध है

शिव का एक रूप आज भी इंसान बनकर धरती पर घूम रहा है..जानें कैसे पहचानेंगे आप इसे!!




Tags:         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran