blogid : 19157 postid : 1107941

यह धर्म कार्य केवल हनुमानजी ही कर सकते थे

  • SocialTwist Tell-a-Friend

शिवपुराण के अनुसार रामायण काल में हनुमानजी ने अपने पराक्रम से प्रभु श्रीराम की सहायता की. हनुमान को भगवान शिव का श्रेष्ठ अवतार कहा जाता है. जब भगवान शिव खुद प्रभु श्रीराम की मदद करने धरती पर पधारे हो तो भला असत्य पर सत्य का विजय क्यों न हो. रामायण काल में हनुमानजी ने कुछ ऐसे धर्म कार्य किए हैं जिसे कोई और नहीं कर सकता था. जानिए वह कौन सा कार्य था जिसे हनुमानजी ही कर सकते थे.



lord_hanuman_flying



समुद्र लांघना- माता सीताजी की खोज में जब सभी वानर समुद्र तट पर पहुंचे तो किसी में 100 योजन विशाल समुद्र को लांघने की क्षमता नहीं थी. सभी को निराश देखकर जामवंत ने हनुमानजी को उनके बल व पराक्रम का स्मरण करवाया और हनुमानजी ने 100 योजन विशाल समुद्र को एक छलांग में ही पार कर लिया.


names-of-hanumanji



माता सीता की खोज- जब हनुमानजी लंका पहुंचे तो वहां कई तरह की समस्याओं का समाना करना पड़ा. लंका द्वार पर लंकिनी राक्षसी को परास्त करना पड़ा और माता सीता की खोज करने लगे. बहुत खोजने के बाद भी माता दिखाई नहीं दी. मां सीता के न मिलने पर हनुमानजी ने सोचा कहीं रावण ने उनका वध तो नहीं कर दिया, यह सोचकर हनुमानजी को बहुत दु:ख हुआ. उनके मन में पुन: उत्साह का संचार हुआ और वे लंका के अन्य स्थानों पर माता सीता की खोज करने लगे. अशोक वाटिका में जब हनुमानजी ने माता सीता को देखा तो वे अति प्रसन्न हुए. इस प्रकार हनुमानजी ने यह कठिन काम भी बहुत ही सहजता से कर दिया.



Read: क्या है महाभारत की राजमाता सत्यवती की वो अनजान प्रेम कहानी जिसने जन्म दिया था एक गहरे सच को… पढ़िए एक पौराणिक रहस्य


लंका दहन- माता से मिलने के बाद हनुमानजी ने प्रभु राम के संदेश को सुनाया. अशोक वाटिका को तहस-नहस कर दिया. ऐसा करके हनुमानजी शत्रु की शक्ति को जानना चाहते थे. यह जानकार लंकापति ने अपने पराक्रमी पुत्र अक्षयकुमार को हनुमानजी को पकड़ने भेजा, हनुमानजी ने बड़ी आसानी से अक्षयकुमार का वध कर दिया. इसके बाद हनुमानजी ने अपना पराक्रम दिखाने के लिए लंका में आग लगा दी. यह पराक्रम केवल हनुमानजी ही कर सकते थे.


marble-hanuman-ji-statue



विभीषण को राम के पक्ष में करना- लंका पहुँचने के बाद हनुमानजी ने ब्राह्मण का रूप धारण कर विभीषण से मिले. ब्राह्मण को अपना परिचय देने के बाद विभीषण ने हनुमानजी से उनका परिचय पूछा. तब हनुमानजी ने उन्हें सारी बात सच-सच बता दी. रामभक्त हनुमान को देखकर विभीषण बहुत प्रसन्न हुए और प्रभु राम का साथ देने का वचन दिया. अंत में, विभीषण के परामर्श से ही भगवान श्रीराम ने रावण का वध किया.


Read: क्या सचमुच प्रयाग में होता है तीन नदियों का संगम…जानिए सरस्वती नदी का सच


राम-लक्ष्मण के लिए पहाड़ लाना- युद्ध के दौरान पराक्रमी इंद्रजीत ने ब्रह्मास्त्र चलाकर कई करोड़ वानरों का वध कर दिया. ब्रह्मास्त्र के प्रभाव से ही भगवान श्रीराम व लक्ष्मण बेहोश हो गए. तब ऋक्षराज जामवंत ने हनुमानजी से कहा कि वह शीघ्र ही हिमालय पर्वत से कुछ औषधियों को ले आए. उन औषधियों की सुगंध से ही राम-लक्ष्मण व अन्य सभी घायल वानर पुन: स्वस्थ हो जाएंगे. हिमालय पर जाने के बाद वह औषधि पर्वत को ही उठा ले आएं. औषधियों की सुगंध से ही राम-लक्ष्मण व करोड़ों घायल वानर पुन: स्वस्थ हो गए.Next…


Read more:

क्या था हस्तिनापुर की राजमाता और वेद व्यास का रिश्ता, क्यों जाती थीं वो व्यास के आश्रम में? पढ़िए पुराणों में विख्यात एक अनजान तथ्य

देश का ऐसा मंदिर जहां भगवान को प्रसाद में नूडल्स चढाया जाता हैं

घर में सुख-समृद्धि लाना है तो भगवान श्रीकृष्ण की इन पांच बातों का रखें ध्यान




Tags:                           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran