blogid : 19157 postid : 965162

मृत्यु शय्या पर रावण ने लक्ष्मण को दी थी ये तीन महत्वपूर्ण सीख

Posted On: 31 Jul, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इसमें कोई शक नहीं कि अपने समय में रावण जैसा पंडित पूरे संसार में नहीं था. राम भी संसार के इस नीति, राजनीति और शक्ति के महान  पंडित की प्रतिभा से पूरी तरह अवगत थे. यही कारण है कि जब मरणासन्न था तब श्रीराम ने अपने भ्राता लक्ष्मण को रावण से सीख लेने के लिए भेजा. रावण ने लक्ष्मण को जो सीख दी वह आपके भी काम आ सकती है. रावण ने लक्ष्मण को कौन सी तीन शिक्षाएं दी.


ravan-laxman


जब श्रीराम की बात सुनकर लक्ष्मण मरणासन्न अवस्था में पड़े रावण पास पहुंचे और उनके  सिर के नजदीक जाकर खड़े हो गए. रावण ने कुछ नहीं बोला.  लक्ष्मणजी वापस रामजी के पास लौटकर आ गए. राम ने लक्ष्मण को समझाया कि यदि किसी से ज्ञान प्राप्त करना हो तो उसके चरणों के पास खड़े होना चाहिए न कि सिर की ओर. तब लक्ष्मण रावण के पास पहुंचकर उनके पैरों के पास खड़े हुए. रावण ने लक्ष्मण को यह तीन शिक्षाएं दी.


Read: रावण से बदला लेना चाहती थी शूर्पनखा इसलिए कटवा ली लक्ष्मण से अपनी नाक


1- पहली बात जो रावण ने लक्ष्मण को बताई वह ये थी कि शुभ कार्य जितनी जल्दी हो कर डालना और अशुभ को जितना टाल सकते हो टाल देना चाहिए यानी शुभस्य शीघ्रम्.  मैंने श्रीराम को पहचान नहीं सका और उनकी शरण में आने में देरी कर दी, इसी कारण मेरी यह हालत हुई.


Read: रावण के ससुर ने युधिष्ठिर को ऐसा क्या दिया जिससे दुर्योधन पांडवों से ईर्षा करने लगे


2- दूसरी बात यह कि अपने प्रतिद्वंद्वी, अपने शत्रु को कभी अपने से छोटा नहीं समझना चाहिए, मैं यह भूल कर गया. मैंने जिन्हें साधारण वानर और भालू समझा उन्होंने मेरी पूरी सेना को नष्ट कर दिया. मैंने जब ब्रह्माजी से अमरता का वरदान मांगा था तब मनुष्य और वानर के अतिरिक्त कोई मेरा वध न कर सके ऐसा कहा था क्योंकि मैं मनुष्य और वानर को तुच्छ समझता था. मेरी मेरी गलती हुई.


r  van_laxmanr


3- रावण ने लक्ष्मण को तीसरी और अंतिम बात ये बताई कि अपने जीवन का कोई राज हो तो उसे किसी को भी नहीं बताना चाहिए. यहां भी मैं चूक गया क्योंकि विभीषण मेरी मृत्यु का राज जानता था.  ये मेरे जीवन की सबसे बड़ी गलती थी. Next…

Read more:

विमान उड़ाने के लिए रावण ने यहां बनवाए थे हवाई अड्डे…वैज्ञानिकों ने खोज निकाला

हनुमान के साथ इस मंदिर में पूजे जाते हैं ये दो राक्षस

कैसे रावण की मृत्यु की वजह बने ये चार श्राप?



Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran