blogid : 19157 postid : 776241

जानें मंदिर और मस्जिद के गुंबद का क्या है रहस्य

Posted On: 23 Jul, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आपने कभी सोचा है कि जिस मंदिर में आप भगवान की उपासना करने जाते हैं उसका आकार गुंबद की तरह क्यों है? यही नहीं इस्लाम, सिख और इसाई धर्म को मानने वाले लोग भी जिन मस्जिदों, गुरुद्वारों और गिरजाघरों में जाया करते हैं उसका आकार भी क्यों गुंबदनुमा होता है.


dome5


दरअसल आकाश के नीचे बैठकर जब हम प्रभु के सामने प्रार्थना करते हैं तो उससे उपन्न तरंगे ब्रह्मांड में कही खो जाती है और वह वापस भी नहीं आती. हम जो पुकार करते हैं वह पुकार हम तक वापस लौट नहीं पाती. हमारी पुकार हम तक लौट सके, इसलिए इन धार्मिक स्थलों का आकार गुंबद की तरह निर्मित किया गया. यह ठीक छोटे आकाश की तरह है जैसे आकाश पृथ्वी को चारों तरफ से छूती है उसी तरह मंदिर, मस्जिद और चर्चों में छोटा आकाश निर्मित किया जाता है. उसके नीचे आप जो भी प्रार्थना और मंत्रोच्चार करेंगे गुंबद उसे वापस लौटा देगा.


Read: बर्गर खाने के चक्कर में कहीं आप मानव मांस तो नहीं खा रहे



dome4


इसका क्या मतलब है

आपकी प्रार्थना स्वीकार हो इसलिए पूरे विश्वास और मन के साथ आप अपने प्रभु की उपासना करते हैं. आपका विश्वास मस्तिस्क का विचार (थॉट) हैं. आप जैसे सोचते और महसूस करते हैं वैसी ही तस्वीर आपके अवचेतन मन में बनती है इसलिए जब आप सोचते हैं तो यही तस्वीर आवृत्ति तरंगों के रूप में चारों ओर ब्रह्मांड में फैल जाती है.


Read: सेल्फी लेने के चक्कर में कुछ ऐसा हो गया जिसकी किसी ने कल्पना नहीं की थी


thoughts10


और यही चीज जब आप गुंबद के नीचे करते हैं अर्थात पूरे मन के साथ अपने प्रभु का जाप करते हैं तो उससे निकली तरंगे पूरे गुंबद में गूंजती है. मंदिर का गुंबद आपकी गूंजी हुई ध्वनि को आप तक लौटा कर एक वर्तुल (सर्किल) निर्मित करवा देता हैं. उस वर्तुल का आनंद ही अद्भुत है. अगर आप खुले आकाश के नीचे जाप करेंगे, तो वर्तुल निर्मित नहीं होगा और भगवान को की गई आपकी प्रार्थना ब्रह्मांड में चली जाएगी.


Read more:

कुदरत के कहर से लड़ती एक मां की कहानी, शायद आपको अपनी आंखों पर यकीन नहीं होगा

क्यों चर्च के कहने पर 500 साल पहले दफ्न हुए लोगों के कंकालों को उनकी कब्र से बाहर निकाल लिया गया?

मिलिए लेडी जैकी चैन से जिसके स्टंट देखकर आपकी सांसे थम जाएगी





Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran