blogid : 19157 postid : 887750

भगवान श्रीकृष्ण ने क्यों दिया अपने ही पुत्र को ये श्राप!

Posted On: 23 May, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

हिन्दू पुराणों में विष्णु के विभिन्न अवतारों का वर्णन किया गया है. हिन्दू धर्म में 33 करोड़ देवी-देवता हैं. आपको इन सभी देवी-देवताओं से जुड़ी कोई न कोई प्रसंंग हमेशा सुनने को मिल जाता होगा. इन प्रसंगों का संबंध किसी ना किसी शहर या देश से रहता है. कई बार देवी-देवताओं से जुड़े प्रसंग आश्चर्य और रहस्य से भरा होता है. ऐसा ही एक प्रसंग पाकिस्तान के शहर मुलतान से जुड़ा हुआ है. यहाँ स्थित सूर्य मंदिर का संबंध भगवान श्रीकृष्ण का अपने पुत्र को दिए गए श्राप से है. आइए जानते हैं क्यों भगवान कृष्ण ने अपने ही पुत्र को श्राप दिया?



jagran 25



हमारे धार्मिक ग्रंथों में उल्लेख है कि जामवंती और कृष्ण के पुत्र सांबा को स्वयं उसी के पिता ने कोढ़ी होने का श्राप दिया था. इस श्राप से मुक्ति पाने के लिए सांबा ने सूर्य मंदिर का निर्माण करवाया था. अब यह मंदिर पाकिस्तान के मुलतान शहर में स्थित है. इस सूर्य मंदिर को आदित्य मंदिर के नाम से भी जाना जाता है.


Read: कृष्ण के मित्र सुदामा एक राक्षस थे जिनका वध भगवान शिव ने किया, शास्त्रों की अचंभित करने वाली कहानी


ग्रंथों के अनुसार बहुमूल्य मणि हासिल करने के लिए भगवान श्रीकृष्ण और जामवंत में 28 दिनों तक युद्ध चला था. युद्ध के दौरान जब जामवंत ने कृष्ण के स्वरूप को पहचान लिया तब उन्होंने मणि समेत अपनी पुत्री जामवंती का हाथ भी उन्हें सौंप दिया. कृष्ण और जामवंती के पुत्र का नाम ही सांबा था. देखने में वह इतना आकर्षक था कि कृष्ण की कई छोटी रानियां उसके प्रति आकृष्ट रहती थीं.



jagran 11



एक दिन कृष्ण की रानी नंदिनी ने सांबा की पत्नी का रूप धारण कर सांबा को आलिंगन में भर लिया. उसी समय कृष्ण ने ऐसा करते हुए देख लिया. क्रोधित होते हुए कृष्ण ने अपने ही पुत्र को कोढ़ी हो जाने और मृत्यु के पश्चात् डाकुओं द्वारा उसकी पत्नियों को अपहरण कर ले जाने का श्राप दिया.


Read: क्या है महाभारत की राजमाता सत्यवती की वो अनजान प्रेम कहानी जिसने जन्म दिया था एक गहरे सच को… पढ़िए एक पौराणिक रहस्य


पुराण में वर्णित है कि महर्षि कटक ने सांबा को इस कोढ़ से मुक्ति पाने हेतु सूर्य देव की अराधना करने के लिए कहा. तब सांबा ने चंद्रभागा नदी के किनारे मित्रवन में सूर्य देव का मंदिर बनवाया और 12 वर्षों तक उन्होंने सूर्य देव की कड़ी तपस्या की. उसी दिन के बाद से आजतक चंद्रभागा नदी को कोढ़ ठीक करने वाली नदी के रूप में ख्याति मिली है.  मान्यता है कि इस नदी में स्नान करने वाले व्यक्ति का कोढ़ जल्दी ठीक हो जाता है.Next…


Read more:

पत्नी की इच्छा पूरी करने के लिए श्री कृष्ण ने किया इन्द्र के साथ युद्ध जिसका गवाह बना एक पौराणिक वृक्ष….

क्यों चुना गया कुरुक्षेत्र की भूमि को महाभारत युद्ध के लिए

श्री कृष्ण के संग नहीं देखी होगी रुक्मिणी की मूरत, पर यहाँ विराजमान है उनके इस अवतार के साथ



Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran