blogid : 19157 postid : 856475

इस मंदिर में देवी मां की पूजा से पहले क्यों की जाती है उनके इस भक्त की पूजा

Posted On: 26 Feb, 2015 Religious में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

गोपालगंज बिहार का एक जिला है. गोपालगंज से सीवान जाने के मार्ग पर थावे नामक एक स्थान है. यह देवी दुर्गा के भक्तों के लिए पावन स्थल के रूप में जानी जाती है. यहाँ देवी दुर्गा के ही एक रूप माता थावेवाली की एक प्राचीन मंदिर है. माता थावेवाली को भक्तगण सिंहासिनी भवानी, थावे भवानी और रहषु भवानी के नाम से भी जानते हैं.


thaveeee



इस मंदिर के पीछे मान्यता यह है कि एक देवी दुर्गा कामख्या से चलकर कोलकाता और पटना के रास्त यहाँ पहुँची थीं. देश की 52 शक्तिपीठों में से एक इस मंदिर के पीछे एक प्राचीन किंतु रोचक कहानी है. जनश्रुतियों के मुताबिक एक समय हथुआ के राजा मनन सिंह हुआ करते थे. स्वयं को माँ दुर्गा का सबसे बड़ा भक्त मानने वाले अपने सामने किसी को भी माँ का भक्त मानने से इंकार करते थे. एक बार उनके राज्य में अकाल पड़ गया और लोग अन्न के दानों के लिए तरसने लगे.


Read: अद्भुत है ग्यारवीं शताब्दी में बने इस सूर्य मंदिर का रहस्य


उसी समय थावे में देवी कमाख्या का एक सच्चा भक्त रहषु रहा करता था. किंवदंतियों के अनुसार रहषु दिन में घास काटता और रात को देवी की कृपा से उसमें से अन्न निकल जाता था. इससे वहां के लोगों को अन्न मिलने लगा, लेकिन राजा को इस बात पर तनिक भी विश्वास नहीं हुआ.


durga mandir



राजा ने रहषु को ढोंगी बताते हुए देवी को बुलाने की चुनौती दी. रहषु ने राजा से मिन्नत की कि अगर देवी यहाँ आयेगी तो राज्य बर्बाद हो जाएगा, परंतु राजा ने अपना हठ नहीं त्यागा. अंत में विवश होकर रहषु देवी की प्रार्थना में लीन होकर उन्हें वहाँ आकर दर्शन देने की स्तुति करने लगे. उसके बुलावे पर देवी कोलकता, पटना और आमी होते हुए थावे पहुँची. देवी के पहुँचते ही राजमहल के समस्त भवन गिर गए और राजा की मौत हो गई.


Read: मंदिर में जाने से पहले आखिर क्यों बजाते है घंटी !!


देवी ने जहाँ दर्शन दिये, वहां एक भव्य मंदिर है जो माता थावेवाली के मंदिर के तौर पर विख्यात है.  थोड़ी ही दूरी पर रहषु भगत का भी मंदिर है. मान्यता यह भी है कि जो लोग माता थावेवाली के दर्शन के लिए आते हैं वे रहषु भगत के मंदिर में भी जरूर जाते हैं. इसके बिना उनकी पूजा अधूरी मानी जाती है. इस मंदिर के समीप ही मनन सिंह के भवनों का खंडहर आज भी मौजूद है. Next…



Read more:

अजीबोगरीब रहस्य में उलझे इस मंदिर में शिवलिंग के जलाभिषेक के लिए स्वयं गंगा जमीन पर आती हैं

क्यों भगवान श्री कृष्ण को करना पड़ा था विधवा विलाप ?

जानें मंदिर और मस्जिद के गुंबद का क्या है रहस्य




Tags:                           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran