blogid : 19157 postid : 856058

इस मंदिर के निकट पहुंचते ही बदल जाती है विमान की दिशा!

Posted On: 25 Feb, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

श्री जगन्नाथ मंदिर हिन्दुओं के श्रेष्ट मंदिरों में से एक है जो भगवान जगन्नाथ यानि श्री कृष्ण को समर्पित है. जगन्नाथ शब्द का अर्थ जग का नाथ या स्वामी. जगन्नाथ मंदिर हिन्दुओं के चार धामों में से एक है. यह भारत का भव्य मंदिर ओडिशा राज्य के तटवर्ती शहर पूरी में स्थित है. इस करिश्माई मंदिर में कई ऐसी बात्वे हैं जो आज के युग में आपको किसी जादू या चमत्कार जैसा ही लगेगा. तो आइए जानते हैं इस करिश्माई मंदिर की कुछ चकित कर देने वाली बातें…


LORD-JAGANNATH-TEMPLE



इस अद्भुत मंदिर की सबसे बड़ी बात यह है कि श्री जगन्नाथ मंदिर पर लगा पताका हमेशा बयार की उलटी दिशा में ही लहराती है. इसके पीछे क्या कारण है? आज भी यह बात राज ही बना हुआ है.


Read: क्यों कलश में पानी और ऊपर नारियल रखा जाता है, जानिए कलश स्थापना का पौराणिक महत्व


श्री जगन्नाथ मंदिर की एक और सबसे खास बात यह है कि पूरी के किसी भी स्थान पर आप चले जाएं वहाँ मंदिर के ऊपर लगा सुदर्शन चक्र आपको दिखेगा जरुर. प्रभु श्री कृष्ण का सुदर्शन चक्र की कृपा है या इस मंदिर की विशेषता.


श्री जगन्नाथ मंदिर के ऊपर से कोई भी पक्षी या विमान नहीं उड़ पाता है. इस मंदिर की कई अद्भुत बातों में यह भी है कि सामान्य तौर पर समुद्र की ओर से हवा धरती की ओर आती है पर पूरी में ठीक इसका उल्टा होता है.



INDIA/



श्री जगन्नाथ जी का एक चमत्कार यह भी है कि इस मंदिर का मुख्य गुंबद की छाया दिन के किसी भी समय नहीं दिखता. सचमुच यह किसी चमत्कार से कम नहीं लगता है.

Read: धन पाने की इच्छा में लोग कैसे करते हैं माँ लक्ष्मी को प्रसन्न


श्री जगन्नाथ मंदिर के रसोईघर में चूल्हे पर एक के बाद एक सात बर्तन को रखा जाता है और कुदरत का करिश्मा तो देखिए कि सबसे पहले ऊपर के बर्तनों में रखा भोजन ही बनता है.


श्री जगन्नाथ मंदिर में सालों भर सामान्य मात्रा में ही भोजन बनता है पर कभी कम नहीं पड़ता चाहे भोजन ग्रहण करने वालों की संख्या 20 हजार हो या 1 लाख. यहाँ बना भोजन का एक भी दाना बर्बाद नहीं होता है.


mahapradad



भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा, इस मंदिर के मुख्य देव हैं. इनकी मूर्तियां, एक रत्न मण्डित पाषाण चबूतरे पर गर्भ गृह में स्थापित है. इतिहास के अनुसार इन मूर्तियोंं की पूजा-अर्चना मंदिर निर्माण से कहीं पहले से की जाती रही है. सम्भव है कि यह प्राचीन जनजातियों द्वारा भी पूजित जा रही हो. Next…

Read more:

रामायण के जामवंत और महाभारत के कृष्ण के बीच क्यों हुआ युद्ध

वैवाहिक जीवन की सफलता छुपी है इन मंत्रों में, जानिए क्यों आपके विवाह पर पढ़े जाते हैं ये मंत्र

जानिए महाभारत में कौन था कर्ण से भी बड़ा दानवीर



Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran