blogid : 19157 postid : 802297

रावण के ससुर ने युधिष्ठिर को ऐसा क्या दिया जिससे दुर्योधन पांडवों से ईर्षा करने लगे

Posted On: 12 Nov, 2014 Religious में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आप रामायण के सभी पात्रों से जरूर वाकिफ होंगे लेकिन क्या आप इस महाकाव्य में निभाए गए उन सभी पात्रों को जानते हैं जिन्होंने महाभारत में भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.  चलिए हम आपको उन्हीं पात्रों से आपका परिचय कराते हैं.


हनुमान: रामायण में प्रमुख भूमिका निभाने वाले भगवान हनुमान महाभारत में महाबली भीम से पांडव के वनवास के समय मिले थे. कई जगह तो यह भी कहा गया है कि भीम और हनुमान दोनों भाई हैं.


bheem


परशुराम: अपने समय के सबसे बड़े ज्ञानी परशुराम को कौन नहीं जानता. माना जाता है कि परशुराम ने 21 बार क्षत्रियों को पृथ्वी से नष्ट कर दिया था. रामायण में भी शिव का धनुष तोड़ने पर भगवान राम पर क्रोधित हुए थे. वहीं अगर महाभारत की बात की जाए तो उन्होंने भीष्म के साथ युद्ध किया था और कर्ण को भी ज्ञान दिया था.


Read:  महाभारत युद्ध में अपने ही पुत्र के हाथों मारे गए अर्जुन को किसने किया पुनर्जीवित?


parshuram-in-ramayan-and-mahabharata



जाम्बवन्त: जिस इंजीनियर ने रामायण में राम सेतु के निर्माण में अपनी प्रमुख भूमिका निभाई थी उसी जाम्बवन्त ने महाभारत में भगवान श्रीकृष्ण के साथ युद्ध किया था.



krishna_and_Jambavan



मयासुर: बहुत ही कम लोगों को मालूम होगा की रावण के ससुर यानी मंदोदरी के पिता मयासुर एक ज्योतिष तथा वास्तुशास्त्र थे. इन्होंने ही महाभारत में युधिष्ठिर के लिए सभाभवन का निर्माण किया जो मयसभा के नाम से प्रसिद्ध हुआ. इसी सभा के वैभव को देखकर दुर्योधन पांडवों से ईर्षा करने लगा था और कहीं न कहीं यही ईर्षा महाभारत में युद्ध का कारण बनी.



mayasura


महर्षि दुर्वासा: हिंदुओं के एक महान ऋषि महर्षि दुर्वासा रामायण में एक बहुत ही बड़े भविष्यवक्ता थे. इन्होंने ही रघुवंश के भविष्य सम्बंधी बहुत सारी बातें राजा दशरथ को बताई थी. वहीं दूसरी तरफ महाभारत में भी पांडव के निर्वासन के समय महर्षि दुर्वासा द्रोपदी की परीक्षा लेने के लिए अपने दस हजार शिष्यों के साथ उनकी कुटिया में पंहुचें थे.


Read: क्या है महाभारत की राजमाता सत्यवती की वो अनजान प्रेम कहानी जिसने जन्म दिया था


Maharishi Durvasa


महर्षि नारद: भगवान श्रीकृष्ण देवर्षियों में नारद को अपनी विभूति बताते है. रमायण, महाभारत से लेकर उपनिषद काल तक में नारद का उल्लेख मिलता है.


narada vishnu

वायु देव: वेदों में कई बार वर्णन किए जाने वाले वायु देव को भीम का पिता माना जाता है. साथ ही ये हनुमान के आध्यात्मिक पिता भी हैं.


अगस्त्यमुनि: रावण से युद्ध करने से पहले भगवान राम ने अगस्त्यमुनि से अस्त्र-शस्त्र का ज्ञान लिया था. अगस्त्यमुनि को ब्रह्मास्त्र का प्रोफेसर माना जाता है. इस वजह से महाभारत में भी उनका वर्णन मिला है.


Read more:

अगर कर्ण धरती को मुट्ठी में नहीं पकड़ता तो अंतिम युद्ध में अर्जुन की हार निश्चित थी

अपने पिता के शरीर का मांस खाने के लिए क्यों मजबूर थे पांडव

आज भी मृत्यु के लिए भटक रहा है महाभारत का एक योद्धा




Tags:             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran